Default Image

Months format

Show More Text

Load More

Related Posts Widget

Article Navigation

Contact Us Form

Terhubung


कोल्हान वन प्रमंडल क्षेत्रों का हो रहा है पतन, वन विभाग देख कर भी बने मुकदर्शक, Kolhan forest division areas are declining, forest department became a visionary even after watching,


सरायकेला। सरायकेला-खरसावां जिला अंतर्गत कान्ड्रा, गम्हरिया, आदित्यपुर क्षेत्र में इन दिनों सफेदपोश नेताओं के संरक्षण में बेतहाशा वन भूमि को अतिक्रमण कर जमीन दलालों के संलिप्तता से जमीन कागजातों का हेराफेरी कर बिक्री किया जा रहा है। वहीं, दूसरी ओर पूर्वी सिंहभूम जिला अंतर्गत लकड़ी माफियों द्वारा वनों से कीमती लकड़ियों वाले वृक्षों को अंधाधुंध पातन कर चोरी के छोटी बड़ी गाड़ियों में जाली नंबर लगा कर एवं अन्य वाहनों से लकड़ियो की ढुलाई शहरी क्षेत्र में किया जा रहा है। 


प्राप्त जानकारी के अनुसार, उन जलावन लकड़ियों को घाटशिला, गालुडीह, बड़ाम, बड़ाबांकी, पटमदा, नरगा इलाके के ईट भट्ठों में बिक्री किया जा रहा है। अगर वन विभाग और पुलिस विभाग की सतर्कता से इन मालवाहक वाहनों पर नजर रखा जाय तो ढेर सारी बिना कागजात और चोरी का वाहन जब्त कर लकड़ी माफियाओं का हौसला पस्त किया जा सकता है। 


विदित है कि ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्येक गांव में वन विभाग के द्वारा वन रक्षा दल, वन ग्राम व अन्य समितियों का भी गठन किया गया है। इसके बावजूद भी वन विभाग को सूचना नहीं मिलना एक सवालिया निशान बना हुआ है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, माना जा रहा है लकड़ी माफियों द्वारा वनों को काटना, वन भू-भाग को जमीन माफियों द्वारा अतिक्रमण करना भी धड़ल्ले से जारी है।

 

No comments:

Post a Comment

GET THE FASTEST NEWS AROUND YOU

-ADVERTISEMENT-

NewsLite - Magazine & News Blogger Template